उद्धव ठाकरे का जीवन परिचय

उद्धव ठाकरे हिंदू राष्ट्रवादी शिवसेना पार्टी के प्रमुख और शिवसेना पार्टी के संस्थापक बाल ठाकरे के बेटे हैं | वह 2002 से चुनाव अभियान में शामिल हैं | वह दैनिक Hindu Marathi News पर भी नजर रखते थे | शिवसेना महाराष्ट्र में एक लोकप्रिय राजनीतिक पार्टी है |
उद्धव ठाकरे ने राज्य स्तर पर काम किया है और अपनी पार्टी के लिए कई राजनीतिक जीत हासिल की है | लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर, उन्होंने अपने पिता की तरह ही सक्रिय भागीदारी से परहेज किया, और महाराष्ट्र के लोगों के लिए काम करने का विकल्प चुना |
Uddhav Thackeray का व्यक्तिगत जीवन:-
उद्धव ठाकरे का जन्म 27 जुलाई 1960 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था | उनके पिता, स्वर्गीय बाला साहेब ठाकरे, भारत में एक प्रसिद्ध व्यक्ति हैं, जो स्वर्गवासी होने के बाद भी महाराष्ट्र के हर व्यक्ति के दिल में बसते हैं | बालासाहेब ठाकरे एक तेजतर्रार राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने शिवसेना पार्टी की स्थापना की, और 2004 में अपने बेटे उद्धव ठाकरे को इसका नियंत्रण सौंप दिया |
वह हमेशा पार्टी में शामिल होने के लिए अनिच्छुक थे, और अपने जीवन के अधिकांश भाग में वह इससे बाहर रहना पसंद करते थे | वह एक प्रकाशित लेखक और एक पेशेवर फोटोग्राफर हैं, जिनका काम कई पत्रिकाओं में छपा है | आधा दर्जन से अधिक पुस्तकें और फोटो पत्रिकाएँ भी हैं जिन्हें उद्धव ठाकरे ने एक फोटोग्राफर और लेखक के रूप में अपने कैरियर के दौरान प्रकाशित किया है |
Uddhav Thackeray की राजनीति में Entry:-
उद्धव ठाकरे को शिवसेना का उत्तराधिकारी घोषित किए जाने से पहले पार्टी के बाहर शायद ही कोई उन्हें जानता था | पार्टी के भीतर भी यह सर्वविदित था कि उद्धव ठाकरे को सक्रिय राजनीति में कोई दिलचस्पी नहीं थी और वे वन्यजीव फोटोग्राफी पसंद करते है | अपने जीवन के पहले 40 वर्षों के लिए, उद्धव ठाकरे ने अपने पिता की पार्टी से किनारा कर लिया और पूरी तरह से असंबंधित क्षेत्र में अपना नाम चुना |
वह एक शौकीन वन्यजीव फ़ोटोग्राफ़र हैं और उनके काम को प्रदर्शित करने वाली वार्षिक प्रदर्शनियाँ काफी आम हैं | उन्हें 2002 के बृहन मुंबई नगर निगम चुनाव के दौरान पार्टी के प्रबंधन की जिम्मेदारी सौंपी गई, जिसे BMC चुनाव भी कहा जाता है, और शिवसेना ने वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया | यह पहली बार था कि किसी ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व गुणों और राजनीतिक स्वभाव को देखा |
उन्होंने पार्टी के साथ मिलकर काम करना शुरू कर दिया और 2004 में, बालासाहेब ठाकरे ने उन्हें अगले पार्टी प्रमुख के रूप में घोषित किया, उन्हें राज ठाकरे के ऊपर चुना गया, जिन्हें बाला साहेब ठाकरे के बाद पार्टी प्रमुख चुने जाने की सभी को उम्मीद थी |
उद्धव ठाकरे का राजनेता के रूप में जीवन:-
उद्धव को अचानक तब सुर्खियां मिली जब उन्हें उनके पिता द्वारा शिवसेना का अगला प्रमुख घोषित किया गया | 2002 के बीएमसी चुनावों में अपनी पार्टी को जीत हासिल कराने के बाद, उनके पिता ने शिवसेना के साथ उनकी बढ़ती भागीदारी के लिए जोर दिया | 2003 में, उन्हें पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में घोषित किया गया था, और वह तब से शिवसेना के नियंत्रण में हैं |
मराठी अखबार सामना जो की पार्टी का प्रमुख मुखपत्र है और जिसकी स्थापना बालासाहेब ठाकरे ने की थी को उद्धव ठाकरे के द्वारा प्रबंधित किया जाता है | जून, 2006 से वह इस लोकप्रिय और अक्सर विवादास्पद, मराठी स्थानीय समाचार पत्र के प्रधान संपादक रहे हैं |
हालाँकि उद्धव ठाकरे 2004 की शुरुआत से ही शिवसेना पार्टी के प्रमुख थे, फिर भी पार्टी की वास्तविक कमान बालासाहेब ठाकरे के हाथों में थी | हालाँकि, बालासाहेब का स्वास्थ्य लगातार गिरता गया और उन्होंने 2013 में वृद्धावस्था के कारण उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया | अपने पिता के निधन के बाद से, उद्धव ठाकरे अब शिवसेना पार्टी के एकमात्र नेता हैं |
बाला साहेब के सबसे संभावित उत्तराधिकारी कहे जाने वाले राज ठाकरे ने पार्टी प्रमुख के रूप में उद्धव ठाकरे की नियुक्ति के बाद 2006 में पार्टी छोड़ दी और अपनी पार्टी, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना शुरू की | शिवसेना के साथ शुरुआती झड़पों के बाद, दोनों दलों में आपसी सहमति बन गई है |
उद्धव ठाकरे की उपलब्धियां:-
शिवसेना प्रमुख प्रचारक के रूप में काम करते हुए वर्ष 2002 में इन्होने BMC चुनाव में शिवसेना के लिए जीत में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी |
विदर्भ, महाराष्ट्र के किसानों के लिए इन्होने एक ऋण राहत अभियान का आयोजन किया था |
उद्धव ठाकरे ने वर्ष 2012 में फिर से BMC चुनाव में जीत के लिए शिव सेना का नेतृत्व किया था |
उद्धव ठाकरे ने पार्टी की आक्रामक छबि में व्यापक परिवर्तन किया हैं। इसके अलावा एक उग्रवादी दल के रूप में लोगो के मध्य व्याप्त छबि को परिवर्तित करते हुए दल को एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाया है जोकि कुछ लोगो के द्वारा कल्याणकारी दल और सहयोगी दल के रूप में चर्चित किया गया था |

Read More

मुंशी प्रेमचंद जी की जीवनी

प्रेमचंद का जन्म वाराणसी के निकट लमही गाँव में हुआ था। उनकी माता का नाम आनन्दी देवी था तथा पिता मुंशी अजायबराय लमही में डाकमुंशी थे। उनकी शिक्षा का आर ...

जब भगवान ने बनाई स्त्री....

जब भगवान स्त्री की रचना कर रहे थे तब उन्हें काफी समय लग गया। 6ठा दिन था और स्त्री की रचना अभी अधूरी थी इसलिए देवदूत ने पूछा- भगवान, आप इसमें इतन ...

परिस्थितियों को बदला जा सकता है

काफी समय पहले की बात है दोस्तों एक आदमी रेगिस्तान में फंस गया था वह मन ही मन अपने आप को बोल रहा था कि यह कितनी अच्छी और सुंदर जगह है अगर यहां पर पानी ...

हार कर भी खुद से जीत गया

मनीष नाम का एक लड़का था उसको दौड़ने का बहुत शौक था वह कई मैराथन में हिस्सा ले चुका था परंतु वह किसी भी race को पूरा नही करता था एक दिन उसने ठान लिया ...

चील संग मुर्गी

एक जंगल में बरगद का पेड़ था. उस पेड़ के ऊपर एक चील घोंसला बनाकर रहती थी जहाँ उसने अंडे दे रखे थे. उसी पेड़ के नीचे एक जंगली मुर्गी ने भी अंडे दे रखें थे. ...

वो नदी का किनारा

एक बार की बात है किसी गांव में एक लड़का रहता था। उसका नाम छोटू था, वो दिनभर खेतों में काम करता और खेती करके ही अपने परिवार का गुजारा चलता था। छोटू व ...

मेंढकों की टोली

एक मेंढकों की टोली जंगल के रास्ते से जा रही थी. अचानक दो मेंढक एक गहरे गड्ढे में गिर गये. जब दूसरे मेंढकों ने देखा कि गढ्ढा बहुत गहरा है तो ऊपर खड़े सभ ...

गीत का इनाम ‘A Brave Girl’

गीत अभी तक कोचिंग क्लास से नहीं लौटी थी तीन बार गली के मोड़ पर जाकर देख चुका था। जबकि रोज साढ़े सात बजे तक लौट आती थी। आज तो साढ़े आठ हो चुके। फोन भी नही ...

चमकीले नीले पत्थर की कीमत

एक शहर में बहुत ही ज्ञानी प्रतापी साधु महाराज आये हुए थे, बहुत से दीन दुखी, परेशान लोग उनके पास उनकी कृपा दृष्टि पाने हेतु आने लगे. ऐसा ही एक दीन दुखी ...

आप वही बन जाते हैं जो आप अपने बारे में सोचते हैं

एक शहर में बहुत ही ज्ञानी प्रतापी साधु महाराज आये हुए थे, बहुत से दीन दुखी, परेशान लोग उनके पास उनकी कृपा दृष्टि पाने हेतु आने लगे. ऐसा ही एक दीन दुखी ...

वो प्यारा बचपन

एक 6 वर्ष का लड़का अपनी 4 वर्ष की छोटी बहन के साथ बाजार जा रहा था| अचानक से उसे लगा की,उसकी बाहन पीछे रह गई है | वह रुका,पीछे मुड़कर देखा तो जाना की ...

Recent Posts






















Like us on Facebook