दिल्ली के बॉस सीएम या एलजी, SC की संविधान पीठ आज सुनाएगी फैसला

सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ बुधवार को तय करेगी कि दिल्ली का बॉस कौन है। दिल्ली के बारे में फैसला लेने की प्राथमिकता किसके पास है। दिल्ली के उपराज्यपाल के पास या मुख्यमंत्री के पास। सुप्रीम कोर्ट केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच चल रही अधिकारों की लड़ाई पर अपना फैसला सुनाएगा। दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने उपराज्यपाल को दिल्ली का प्रशासनिक मुखिया घोषित करने के हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। अपीलीय याचिका में दिल्ली की चुनी हुई सरकार और उपराज्यपाल के अधिकार स्पष्ट करने का आग्रह किया गया है।
सुरक्षित रख लिया था फैसला
मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एके सीकरी, न्यायमूर्ति एमएम खानविल्कर, न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने केंद्र और दिल्ली सरकार की ओर से पेश दिग्गज वकीलों की चार सप्ताह तक दलीलें सुनने के बाद गत छह दिसंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। दिल्ली सरकार की ओर से वरिष्ठ वकील गोपाल सुब्रमण्यम, पी. चिदंबरम, राजीव धवन, इंदिरा जयसिंह और शेखर नाफड़े ने बहस की थी जबकि केन्द्र सरकार का पक्ष एडीशनल सालिसिटर जनरल मनिंदर सिंह ने रखा था।
उपराज्यपाल चुनी हुई सरकार को काम नहीं करने देते
दिल्ली सरकार की दलील थी कि संविधान के तहत दिल्ली में चुनी हुई सरकार है और चुनी हुई सरकार की मंत्रिमंडल को न सिर्फ कानून बनाने बल्कि कार्यकारी आदेश के जरिये उन्हें लागू करने का भी अधिकार है। दिल्ली सरकार का आरोप था कि उपराज्यपाल चुनी हुई सरकार को कोई काम नहीं करने देते और हर एक फाइल व सरकार के प्रत्येक निर्णय को रोक लेते हैं।
हालांकि दूसरी ओर केंद्र सरकार की दलील थी कि भले ही दिल्ली में चुनी हुई सरकार हो लेकिन दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं है। दिल्ली विशेष अधिकारों के साथ केंद्र शासित प्रदेश है। दिल्ली के बारे में फैसले लेने और कार्यकारी आदेश जारी करने का अधिकार केंद्र सरकार को है। दिल्ली सरकार किसी तरह के विशेष कार्यकारी अधिकार का दावा नहीं कर सकती।
मामूली बातों पर मतभेद नहीं होना चाहिए
दिल्ली सरकार बनाम उपराज्यपाल मामले में सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी भी की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उपराज्यपाल और चुनी हुई सरकार के बीच आत्मीय संबंध होने चाहिए। खासतौर पर जब केंद्र और दिल्ली में अलग-अलग पार्टी की सरकार हो। उपराज्यपाल और सीएम के बीच प्रशासन को लेकर सौहार्द्र होना चाहिए।आपसी राय में मतभेद मामूली बातों पर नहीं होना चाहिए।
एलजी के अधिकार राज्य सरकार से ज्यादा
बता दें कि उपराज्यपाल को दिल्ली का प्रशासनिक प्रमुख बताने वाले, दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली दिल्ली सरकार की विभिन्न याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर चुकी है। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान पीठ स्पष्ट कर चुकी है कि केजरीवाल सरकार को स‌ंविधान के दायरे में रहना होगा, पहली नजर में एलजी के अधिकार राज्य सरकार से ज्यादा हैं।

Read More

राफेल पर गलतबयानी कर उल्टे फंसे राहुल, फ्रांस ने कहा- डील नहीं कर सकते सार्वजनिक

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिस फ्रांसीसी युद्धक विमान राफेल को सरकार पर हमले का बड़ा हथियार बनाने वाले थे, उससे खुद ही घायल हो गए। उन्होंने संसद में ...

विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को राजनीतिक हथियार बनाएगी मोदी सरकार

विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव अब मोदी सरकार के लिए केवल जीत का सवाल नहीं है बल्कि इतनी बड़ी जीत का है कि विपक्ष नैतिक तौर पर हार मानने को मजबूर हो। हाला ...

अविश्वास प्रस्तावः जानिए- लोकसभा में पक्ष और विपक्ष की संख्या गणित

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है, जिस पर आगामी शुक्रवार को बहस होगी। लोकसभा के आंकड़ों पर नजर डालें, ...

यूपी के ग्रेटर नोएडा में 6 मंजिला इमारत गिरने से 50 से अधिक लोग दबे, 3 की मौत

बिसरख कोतवाली क्षेत्र के गांव शाहबेरी में जीवन ज्योति कॉलोनी के करीब मंगलवार की रात करीब साढ़े नौ बजे एक ही परिसर में स्थित दो इमारतें धराशायी हो गईं। ...

...तो क्या राहुल गांधी को लेकर सर्जिकल स्ट्राइक करने जाते

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वाले विपक्ष पर जमकर तंज कसे। सोमवार को उन्होंने व्यंगात्मक ल ...

बंगाल में पीएम की सभा के दौरान टेंट गिरा, 30 जख्मी; घायलों से मिले मोदी

पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले में सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा के दौरान लोगों को बारिश व धूप से बचाने के लिए बनाए गए टेंट का एक ...

ममता के गढ़ में गरजेंगे मोदी, किसानों को बताएंगे सरकार केे काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में मोदी की यह पहली रैली है। ...

बड़ी खबर : बच्चों का टेलकम पाउडर दे रहा कैंसर, कंपनी पर लगा अरबों का जुर्माना

हम और आप अपने मासूम बच्चों की कितनी देखरेख करते हैं। हमारी हर संभव कोशिश होती है कि मासूम को किसी तरह से कोई दिक्कत न हो। उस मासूम के लिए हर चीज जांच- ...

अयोध्या में राम मंदिर के लिए अपने हिस्से की जमीन छोड़ने को तैयार शिया वक्फ बोर्ड

शिया सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड ने अयोध्या राम जन्मभूमि मामले में मुसलमानों को मिली एक तिहाई जमीन पर अपना दावा जताते हुए सुप्रीम कोर्ट में कहा कि बाबरी मस्जि ...

राजफाश- पूर्वांचल के सफेदपोश ने 10 करोड़ में दी थी मुन्ना बजरंगी को मारने की सुपारी!

माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में एक और सनसनीखेज तथ्य सामने आया है। खाकी के हाथ वारदात का पूर्वांचल कनेक्शन लगा है। इससे यह शक पुख्ता हो ...

ऐसा खौफः सुनील राठी के पास जाने को जांच अधिकारी ने मांगी बुलेटप्रूफ जैकेट

माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या के बाद से सुनील राठी का खौफ बढ़ गया है। जेल में बंदियों से लेकर बंदी रक्षक व जांच अधिकारी तक सुनील राठ ...

Recent Posts





















Like us on Facebook