आज से देश के दस करोड़ से ज्‍यादा लोग करा सकेंगे किसी भी अस्‍पताल में मुफ्त इलाज

प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी 23 सितंबर को झारखंड की राजधानी रांची से प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना की शुरूआत की। इस स्कीम के तहत 10 करोड़ से ज्यादा परिवारों को स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएगा। इसके साथ ही पीएम ने चाइबासा और कोडरमा में मेडिकल कॉलेज की नींव रखने के साथ दस हैल्‍थ सेंटर का भी उद्घाटन किया। आपको बता दें कि इससे पहले प्रधानमंत्री ने उज्‍जवला योजना की भी शुरुआत रांची से ही की थी। प्रधानमंत्री ने इस योजना की घोषणा इसी वर्ष 15 अगस्‍त को की थी।
क्‍या आप हैं इसके हकदार
योजना के अंतर्गत आप आते हैं या नहीं इसकी जानकारी आप https://www.abnhpm.gov.in/ पर जाकर ले सकते हैं। साइट पर जाने के बाद आपको AM I ELIGIBLE दिखाई देगा। इस पर क्लिक करने के बाद आपको एक दूसरी खुली विंडो में अपना नंबर डालना होगा, फिर इसमें दिया केप्‍चा भरकर ओटीपी जनरेट करना होगा। मोबाइल पर आए ओटीपी को यहां डालने के बाद क्लिक करना होगा। इसके बाद एक दूसरी विंडो खुलेगी जिसमें आपको सर्च के कुछ ऑप्‍शन दिये गए हैं। इसमें नाम, मोबाइल नंबर, राशन कार्ड नंबर और SECC शामिल हैं।
ऐसे करें शिकायत
योजना से जुड़े अस्पताल अगर इलाज के लिए पैसे मांगते हैं या फिर इलाज करने से मना कर देते हैं तो लाभार्थी डिस्ट्रिक्ट ग्रीवांस री-ड्रेसल कमिटी में अपील कर सकता है। इस कमिटी के चेयरमैन जिले के कलेक्टर होंगे। दोषी पाए जाने पर अस्पताल पर जुर्माना लगाया जाएगा और साथ ही उनका लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।
हेल्‍पलाइन नंबर भी मौजूद
लेकिन आपको बता दें कि इस पोर्टल में उनके ही नाम शामिल किए गए हैं जिनकी जानकारी 30 अप्रेल 2018 में देश की सभी ग्राम सभाओं द्वारा एकत्रित किए गए थे। यदि आपको अपना नाम इसमें नहीं मिलता है तो आप SECC (Socio-Economic Caste Census) के तहत नाम को खोजा जा सकता है। यदि इसमें भी आपको अपना नाम नहीं मिलता है तो आप अपने करीबी आयुष्‍मान मित्र से संपर्क साध सकते हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की हेल्पलाइन नंंबर 14555 पर कॉल करके इसकी सूचना ली जा सकती है।
योजना के प्रमुख बिंदु
- योजना के तहत पांच लाख तक का मेडिकल कवर दिया जाएगा। इसका सीधा सा अर्थ है कि पांच लाख तक आपको इलाज के लिए कोई भी पैसा नहीं देना होगा। - परिवार के सदस्‍यों की संख्‍या को लेकर योजना में कोई बाध्‍यता नहीं है।
- इस योजना का लाभ केवल उन्हीं परिवारों को मिलेगा जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करते हैं। इसके अलावा सामाजिक-आर्थिक और जातिगत जनगणना (एसईसीसी) में शामिल लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा।
- एसईसीसी के डाटाबेस में मौजूद परिवार के सभी सदस्‍य अपने आप इस योजना के धारक होंगे। - इलाज के दौरान अस्‍पताल में भर्ती होने पर मरीज को किसी भी तरह का कोई शुल्‍क नहीं देना होगा।
- योजना में शामिल सभी बीमारियां पहले दिन से ही होंगी कवर। अस्‍पताल में भर्ती होने से पहले और बाद में भी मिलेगा फायदा। इस स्कीम के तहत 1350 तरह के मेडिकल पैकेज अवेलेबव होंगे। जिनके अन्तर्गत सर्जरी, डे केयर ट्रीटमेंट, दवा की कॉस्ट और डायग्नोस्टिक का खर्च भी वहन किया जाएगा।
- योजनाधारक कहीं भी निजी अस्‍पतालों में जाकर अपना इलाज मुफ्त में करवा सकेंगे। सरकार ने इसके लिए अभी तक करीब 8 हजार अस्पतालों से टाई-अप कर लिया है। आगे करीब 20,000 अस्पताल इस योजना से जुड़ेगें।
- इलाज के दौरान योजनाधारक को किसी भी तरह का आईडी अस्‍पताल में दिखाकर अपनी पहचान साबित करनी होगी।

Read More

सीएम बनते ही बोले कमलनाथ, यूपी-बिहार नहीं मध्यप्रदेश के युवाओं का नौकरी पर पहला हक

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का एक काम पहले दिन से ही विवादों की भेट चढ़ता नजर आ रहा है। दरअसल, मुख्यमंत्री ने पहले दिन उद्योगों के लिए नई छूट नीत ...

कर्जमाफी- गंगा जल लेकर किया गया वादा कांग्रेस के लिए चुनौती, किसानों को है बेसब्री से इंतजार

मध्य प्रदेश, राजस्थान के साथ ही छत्तीसगढ़ में भी मुख्यमंत्री पद के दावेदार का चयन होने के बाद अब इंतजार केवल इसका नहीं है कि कमलनाथ, अशोक गहलोत और भूप ...

कौन बनेगा मुख्यमंत्रीः मप्र, राजस्थान के बाद अब छत्तीसगढ़ की बारी, सस्पेंस बरकरार

मध्यप्रदेश के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री की भी घोषणा हो गई, लेकिन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पर रहस्य बरकरार है। शुक्रवार को दिल्ली में कांग्रेस के राष् ...

मध्यप्रदेश में कमल के बाद कमलनाथ का राज, सोनिया-प्रियंका की ने की सीएम बनने में मदद!

चुनाव नतीजे आने के दो दिन बाद कांग्रेस आखिरकार मध्य प्रदेश में कमलनाथ को मुख्यमंत्री चुनने में सफल रही। मध्यप्रदेश में कमलनाथ पर मुहर राहुल गांधी ने म ...

तीनों राज्यों के सीएम पर अब भी सस्पेंस, अब दिल्ली में राहुल तय करेंगे नाम

तीन राज्यों में बड़ी जीत के बाद मुख्यमंत्री पद की दौड़ में शामिल दिग्गजों के डटे रहने की वजह से कांग्रेस के लिए सीएम तय करना आसान नहीं रहा। मध्य प्रदे ...

मध्यप्रदेश-राजस्थान में किसी को बहुमत नहीं, जोड़-तोड़ शुरू; किसकी बनेगी सरकार ?

कांग्रेस पार्टी तीन राज्यों में मिली जीत से भले ही उत्साहित हो लेकिन वो दो राज्यों, राजस्थान और मध्यप्रदेश में बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाई है। इसीलिए ...

दिल थाम कर बैठिए, कल धीरे-धीरे आएगा चुनाव परिणाम, कांग्रेस की ये मांग है वजह

इस बार मतगणना का परिणाम धीरे-धीरे आएगा और देर रात तक नतीजे घोषित होने की संभावना है। इसके पीछे वजह कांग्रेस की आशंका और चुनाव आयोग का एक फैसला है। दरअ ...

10 Exit Poll का सार, जानें कहां बन रही है किसकी सरकार

राजस्थान और तेलंगाना का मतदान खत्म होते ही एग्जिट पोल जारी कर दिए गए। सभी की नजरें मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी थी, जहां मुख्य मुकाबला भा ...

दैनिक जागरण के 75 सालः संवरते भारत का संवाद, पीएम मोदी रखेंगे विचार

विज्ञान, नैतिकता और सार्थकता की राह दिखाने वाला भारत अब फिर से खुद को तलाश रहा है। जाहिर है कि यह स्थिति कई कारणों से बनी जिसमें शायद वषर्षो की गुलामी ...

बिचौलिये मिशेल से CBI की सख्त पूछताछ, सिर्फ दो घंटे सोने दिया, घबराहट में दौरा पड़ा

अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल (57) के दिल्ली पहुंचने के बाद सीबीआइ ने उससे सघन पूछताछ की। उसे रात में सिर्फ द ...

भारत का सबसे वजनी सैटेलाइट GSAT-11 लांच, तेज हो जाएगी इंटरनेट की स्पीड

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO ने बुधवार को अपने अब तक के सबसे वजनी सैटेलाइट का प्रक्षेपण कर दिया। भारतीय समयानुसार मगंलवार-बुधवार की रात में दक्षिणी अमे ...

Recent Posts






















Like us on Facebook