नेशनल टूरिज्म डे (National Tourism Day)

एतेरेय ब्राह्मण में लिखा है

कलि” शयानो भवति , संजिहानस्तु द्वापर: |

उतिष्ठन त्रेता भवति ,कृत स्पन्द्व्ते चरन ||

चरैवेति ,चरैवति

अर्थात जन मनुष्य सोया रहता है वह कलियुग में होता है | जब वह बैठ जाता है तब द्वापर में होता है जब उठ खड़ा होता है तब त्रेतायुग में तथा जब चलने लगता है तब वह सतयुग को प्राप्त करता है अत: चलते रहो ,चलते रहो | जीवन चलने का नाम है आगे बढने का नाम है | पर्यटन भी तो चलने का ,निरंतर आगे बढने का और नित्य नव अन्वेषण करने का नाम है अत: पर्यटन जीवन है पर्यटन ही मनुष्य का विकास है |

पर्यटन मनुष्य के विकास का पर्याय है उसकी क्षमता का मूल्याकंन करने तथा उसकी क्षमता को विकसित करने का साधन और माध्यम भी | केवल भौतिक नही अपितु मानसिक और आह्द्यात्मिक क्षमता का विकास है पर्यटन | अपनी भौतिक क्षमता को जानने के लिए अपने को जानना आवश्यक है और अपने को जानना है आध्यात्मिक अभ्युदय | इसके लिए आवश्यक है मानसिक क्षमता का विकास भी अत: भौतिक ,मानसिक तथा आध्यत्मिक तीनो तत्वों के विकास का मार्ग और साधन है पर्यटन |

पर्यटन अर्थात देश-देशांतर का भ्रमण सतयुग के तुल्य है क्योंकि चलना ही (कुछ करना ही) जीवन है रुकना मृत्यु है | भारतभूमि पर जहा का चप्पा चप्पा असीम प्राकृतिक सुषमा और सौन्दर्य ,भौगोलिक विशिष्टता तथा आध्यात्मिक उर्जा से भरपूर है पर्यटन जीवनी शक्ति का अनंत स्त्रोत है | भैतिकता की जड़ता से निकलना ही सही अर्थो में पर्यटन की अवधारणा को साकार करना है |

कई स्थलों अथवा क्षेत्रो को यहा देवभूमि से अभिहित किया जाता है | वास्तव में सारा भारत ही देवभूमि है | भारत भूमि पर पर्यटन का अर्थ मात्र धार्मिक तीर्थयात्रा करना अथवा किसी महंगे रिसोर्ट में छुट्टिया बिताना नही अपितु धर्म के मर्म को जान क्र शुद्ध धर्म पर्वत होना है | यहा पर्यटन का अर्थ है स्वयं में देवत्व की स्थापना करना | धर्म ,अर्थ ,काम ,मोक्ष इन चारो पुरुषार्थो में संतुलन स्थापित कर जीवन जीने की कला को विकसित करने का नाम पर्यटन है |

देश के चारो कोनो में स्तिथ आदि शंकराचार्यों द्वारा स्थापित चार मठधर्म देश को जोड़ते है | पर्यटन भी किसी मठ ,किसी धर्म से कम नही | मन्दिर ,मस्जिद ,गिरिजाघर ,गुरूद्वारे ,पीरो फकीरों की मजारे और दरगाहे सभी लोगो को एक सूत्र में पिरोते है | ऊँची ऊँची मीनारे ,विशाल दरवाजे ,शानदार महल और किले तथा अन्य स्मारक सभी दूर दूर से लोगो को आकर्षित करते है | धर्म दर्शन ,आध्यात्म ,पुरातत्व ,शिल्प और कलाए इन सबके माध्यम से पर्यटन ही तो जोड़ता है देश को | स्थानों को नही आत्माओं को जोड़ता है पर्यटन भारतभूमि पर |

यहा भारतभूमि पर हिमालय के सुरम्य परिवेश में आश्रमों में विदेशी आते है योग की शिक्षा प्राप्त करने ,योग साधना में पारंगत होने | भारतभूमि पर पर्यटन स्वयं में योग साधना है | यम, नियम ,आसन ,प्राणायाम ,प्रत्याहार ,धारणा ,ध्यान और समाधि महर्षि पतंजलि द्वारा पदत्त योग के ये आठ अंग है | बतलाइये इनमे से योग का कौन सा अंग है जो पर्यटन में सम्मिलित नही है ?

पर्यटन का प्रारम्भ होता है शारीरिक श्रम से | पैदल चलना हो या ट्रेकिंग ,शारीरिक श्रम के ही रूप में है जो योग में वर्णित आसन और प्राणायाम के अभ्यास के समान ही है | नैसर्गिक सौन्दर्य में ही नही ,मानव द्वारा निर्मित शिल्प और कलाओं में भी खो जाता है पर्यटक | भूख-प्यास भूलकर बीएस एकटक निहारता रह जाता है एक से बढ़ कर एक शाहकार को | भूल जाता है सफर की सारी पीड़ा और सारे दुःख तकलीफ |

धीरे धीरे पर्यटक प्रत्याहार ,धारणा और ध्यान की अवस्थाये से गुजर कर पहुच जाता है समाधि की अवस्था के निकट | समाधि की अवस्था के निकट पहुच कर सम्पूर्ण रूपांतरण की प्रक्रिया को प्राप्त कर लेता है पर्यटक | पर्यटन की नैतिक मान्यताओं का पोषण होता है यम और नियम से | इस प्रकार सम्पूर्ण योग ही तो है पर्यटन |

कम नही होती सफर की दुश्वारिया भी | बजट में असंतुलन होने पर भी कम परेशानी नही होती | स्वास्थ्य बिगड़ने ,चोट लगने और आर्थिक नुकसान होने की भी पुरी पुरी सम्भावना बनी रहती है | इन सब विषम परिस्थितयो के बीच परदेस में धैर्य का विकास करता है पर्यटन | धैर्य अथवा धृति धर्म का प्रमुख तत्व या लक्षण है अत: जीवन में वास्तविक धर्म को स्थापित करता है पर्यटन | धर्म के मूल स्वरूप या तत्व से मनुष्य को जोड़ता है पर्यटन |

Read More

विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day) का इतिहास

कैंसर एक ऐसी जानलेवा और गंभीर बिमारी है जिससे सबसे ज्यादा लोगों की मृत्यु होती है. विश्व में इस बीमारी की चपेट में सबसे अधिक मरीज़ हैं. देखा जाए तो पूर ...

जानें विश्व कुष्ठ उन्मूलन दिवस कब है ?

चिकित्सक गेरहार्ड आर्मोर हैन्सेन (Gerhard Armauer Hansen) के नाम पर, माइकोबैक्टेरियम लेप्री (Mycobacterium leprae) और माइकोबैक्टेरियम लेप्रोमेटॉसिस (M ...

ह्यूमनॉइड व्योम मित्र क्या है और इसका गगनयान मिशन से क्या सम्बन्ध है?

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) दिन-रात सफलता की बुलंदियों को चढ़ता नजर आ रहा है. इसने चंद्रयान-1 (2008) और मंगलयान (2013) को लांच करके अपनी काबि ...

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

विश्व भर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस प्रतिवर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है| विश्व सीमा शुल्क संगठन (डब्ल्युसीओं का गठन 26 जनवरी 1953 को किया गया ...

अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

26 जनवरी 2016 को दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस का अयोजन 26 जनवरी 1953 को विश्व सीमा शुल्क संगठन (डबल् ...

नेशनल गर्ल चाइल्ड डे, बेटियों से रोशन ये जहान है…

भारत में राष्ट्रीय बालिका शिशु दिवस बालिका शिशु के लिये राष्ट्रीय कार्य दिवस के रुप में हर वर्ष 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका शिशु दिवस मनाय ...

मासिक शिवरात्रि का महत्व

हिन्दू धर्म में मासिक शिवरात्रि और महाशिवरात्रि का विशेष महत्व है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, प्रत्येक महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि म ...

जानें क्यों मौनी अमावस्या पर होती है भगवान विष्णु के साथ पीपल की पूजा,मौनी अमावस्या का महत्व

महाभारत के एक दृष्टांत में इस बात का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि माघ मास के दिनों में अनेक तीर्थों का समागम होता है, वहीं पद्मपुराण में कहा गया है क ...

जानें, एकादशी व्रत की महिमा क्या है

तमाम व्रत और उपवासों में सर्वाधिक महत्व एकादशी का है, जो माह में दो बार पड़ती है. शुक्ल एकादशी,और कृष्ण एकादशी. वैशाख मास में एकादशी उपवास का विशेहिन् ...

राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब मनाया गया ?

भारत में राष्ट्रीय मतदाता दिवस हर साल 25 जनवरी को मनाया जाता है। यह दिवस भारत के प्रत्येक नागरिक के लिए अहम है। इस दिन भारत के प्रत्येक नागरिक को अपने ...

Recent Posts





















Like us on Facebook