नेशनल टूरिज्म डे (National Tourism Day)

एतेरेय ब्राह्मण में लिखा है

कलि” शयानो भवति , संजिहानस्तु द्वापर: |

उतिष्ठन त्रेता भवति ,कृत स्पन्द्व्ते चरन ||

चरैवेति ,चरैवति

अर्थात जन मनुष्य सोया रहता है वह कलियुग में होता है | जब वह बैठ जाता है तब द्वापर में होता है जब उठ खड़ा होता है तब त्रेतायुग में तथा जब चलने लगता है तब वह सतयुग को प्राप्त करता है अत: चलते रहो ,चलते रहो | जीवन चलने का नाम है आगे बढने का नाम है | पर्यटन भी तो चलने का ,निरंतर आगे बढने का और नित्य नव अन्वेषण करने का नाम है अत: पर्यटन जीवन है पर्यटन ही मनुष्य का विकास है |

पर्यटन मनुष्य के विकास का पर्याय है उसकी क्षमता का मूल्याकंन करने तथा उसकी क्षमता को विकसित करने का साधन और माध्यम भी | केवल भौतिक नही अपितु मानसिक और आह्द्यात्मिक क्षमता का विकास है पर्यटन | अपनी भौतिक क्षमता को जानने के लिए अपने को जानना आवश्यक है और अपने को जानना है आध्यात्मिक अभ्युदय | इसके लिए आवश्यक है मानसिक क्षमता का विकास भी अत: भौतिक ,मानसिक तथा आध्यत्मिक तीनो तत्वों के विकास का मार्ग और साधन है पर्यटन |

पर्यटन अर्थात देश-देशांतर का भ्रमण सतयुग के तुल्य है क्योंकि चलना ही (कुछ करना ही) जीवन है रुकना मृत्यु है | भारतभूमि पर जहा का चप्पा चप्पा असीम प्राकृतिक सुषमा और सौन्दर्य ,भौगोलिक विशिष्टता तथा आध्यात्मिक उर्जा से भरपूर है पर्यटन जीवनी शक्ति का अनंत स्त्रोत है | भैतिकता की जड़ता से निकलना ही सही अर्थो में पर्यटन की अवधारणा को साकार करना है |

कई स्थलों अथवा क्षेत्रो को यहा देवभूमि से अभिहित किया जाता है | वास्तव में सारा भारत ही देवभूमि है | भारत भूमि पर पर्यटन का अर्थ मात्र धार्मिक तीर्थयात्रा करना अथवा किसी महंगे रिसोर्ट में छुट्टिया बिताना नही अपितु धर्म के मर्म को जान क्र शुद्ध धर्म पर्वत होना है | यहा पर्यटन का अर्थ है स्वयं में देवत्व की स्थापना करना | धर्म ,अर्थ ,काम ,मोक्ष इन चारो पुरुषार्थो में संतुलन स्थापित कर जीवन जीने की कला को विकसित करने का नाम पर्यटन है |

देश के चारो कोनो में स्तिथ आदि शंकराचार्यों द्वारा स्थापित चार मठधर्म देश को जोड़ते है | पर्यटन भी किसी मठ ,किसी धर्म से कम नही | मन्दिर ,मस्जिद ,गिरिजाघर ,गुरूद्वारे ,पीरो फकीरों की मजारे और दरगाहे सभी लोगो को एक सूत्र में पिरोते है | ऊँची ऊँची मीनारे ,विशाल दरवाजे ,शानदार महल और किले तथा अन्य स्मारक सभी दूर दूर से लोगो को आकर्षित करते है | धर्म दर्शन ,आध्यात्म ,पुरातत्व ,शिल्प और कलाए इन सबके माध्यम से पर्यटन ही तो जोड़ता है देश को | स्थानों को नही आत्माओं को जोड़ता है पर्यटन भारतभूमि पर |

यहा भारतभूमि पर हिमालय के सुरम्य परिवेश में आश्रमों में विदेशी आते है योग की शिक्षा प्राप्त करने ,योग साधना में पारंगत होने | भारतभूमि पर पर्यटन स्वयं में योग साधना है | यम, नियम ,आसन ,प्राणायाम ,प्रत्याहार ,धारणा ,ध्यान और समाधि महर्षि पतंजलि द्वारा पदत्त योग के ये आठ अंग है | बतलाइये इनमे से योग का कौन सा अंग है जो पर्यटन में सम्मिलित नही है ?

पर्यटन का प्रारम्भ होता है शारीरिक श्रम से | पैदल चलना हो या ट्रेकिंग ,शारीरिक श्रम के ही रूप में है जो योग में वर्णित आसन और प्राणायाम के अभ्यास के समान ही है | नैसर्गिक सौन्दर्य में ही नही ,मानव द्वारा निर्मित शिल्प और कलाओं में भी खो जाता है पर्यटक | भूख-प्यास भूलकर बीएस एकटक निहारता रह जाता है एक से बढ़ कर एक शाहकार को | भूल जाता है सफर की सारी पीड़ा और सारे दुःख तकलीफ |

धीरे धीरे पर्यटक प्रत्याहार ,धारणा और ध्यान की अवस्थाये से गुजर कर पहुच जाता है समाधि की अवस्था के निकट | समाधि की अवस्था के निकट पहुच कर सम्पूर्ण रूपांतरण की प्रक्रिया को प्राप्त कर लेता है पर्यटक | पर्यटन की नैतिक मान्यताओं का पोषण होता है यम और नियम से | इस प्रकार सम्पूर्ण योग ही तो है पर्यटन |

कम नही होती सफर की दुश्वारिया भी | बजट में असंतुलन होने पर भी कम परेशानी नही होती | स्वास्थ्य बिगड़ने ,चोट लगने और आर्थिक नुकसान होने की भी पुरी पुरी सम्भावना बनी रहती है | इन सब विषम परिस्थितयो के बीच परदेस में धैर्य का विकास करता है पर्यटन | धैर्य अथवा धृति धर्म का प्रमुख तत्व या लक्षण है अत: जीवन में वास्तविक धर्म को स्थापित करता है पर्यटन | धर्म के मूल स्वरूप या तत्व से मनुष्य को जोड़ता है पर्यटन |

Read More

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस कब मनाया जाता है ?

चर्चा में क्यों? 7 जून, 2019 को पहली बार विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस (World Food Safety Day) मनाया गया। इसे संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा दिसं ...

विश्व मस्तिष्क ट्यूमर दिवस कब मनाया जाता है ?

हर साल 8 जून को विश्व मस्तिष्क ट्यूमर दिवस (World Brain Tumor Day 2019) के रूप में मनाया जाता है। वर्ल्‍ड ब्रेन ट्यूमर डे का उद्देश्य मस्तिष्क ट्यूमर ...

05 जून को लगेगा चंद्रग्रहण, जानें समय और सूतक,

जब भी ग्रहण की बात आती है तो कई लोग पूछते हैं कि ग्रहण कब है (Chandra Grahan Kab Hai). तो आपको बता दें कि साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 05 जून (Lunar ...

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है ?

यह जून के तीसरे रविवार को मनाया जाता है कहा जाता है नेरा डोड जब नन्ही सी थी, तभी उनकी मां का देहांत हो गया। पिता विलियम स्मार्ट ने सोनेरो के जीवन में ...

World Environment Day: कब है पर्यावरण दिवस ?

विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को पूरे विश्व में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य पर्यावरण के प्रति जागरुकता फैलाना है. हर साल पर्यावरण दिवस थीम प्रकृति ...

विश्व साइकल दिवस : 07 बातें कि क्यों कोरोना के दौर में सुरक्षित और आसान है साइकल

03 जून को पूरी दुनिया विश्व साइकल दिवस मना रही है. कोरोनो दौर में साइकल की प्रासंगिकता बढ़ी है. ये सेहतमंद भी है और सुरक्षित भी. अब तो नई साइकलें ऐसी ...

इस भारतीय घरेलू नुस्खे से कम होगा कोरोना वायरस का खतरा

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच इससे बचाव और इसके इलाज को लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं। एक तरफ इसकी वैक्सीन को लेकर काफी हद तक सक ...

गंगा दशहरा मनाने के पीछे पौराणिक कथा क्या है ?

गंगा दशहरा पर्व सनातन संस्कृति का एक पवित्र त्योहार है। धार्मिक मान्यता के अनुसार माना जाता है की इस दिन ‘माँ गंगा’ का धरती पर आगमन हुआ था। हिंदू धर् ...

माता-पिता का वैश्विक दिवस

आपने आज तक मदर्स डे, फादर्स डे के अलावा कई अन्य दिन सेलिब्रेट किए होगें। लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्रति वर्ष जुलाई माह के आखिरी इतवार को देश समेत पू ...

World No Tobacco Day क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस ?

दुनिया भर में वर्ल्ड नो टोबैको डे 2020 मनाया जा रहा है। यह दिन खासतौर पर तंबाकू के सेवन को रोकने और तंबाकू के कारण सेहत को होने वाले नुकसान के बारे मे ...

अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक दिवस कब मनाया जाता है?

प्रतिवर्ष 29 मई को अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक दिवस मनाया जाता है, इसके द्वारा संयुक्त राष्ट्र के शांति सैनिकों के योगदान के लिए सम्मान ...

Recent Posts






















Like us on Facebook