वो नदी का किनारा

एक बार की बात है किसी गांव में एक लड़का रहता था। उसका नाम छोटू था, वो दिनभर खेतों में काम करता और खेती करके ही अपने परिवार का गुजारा चलता था। छोटू वैसे तो अब बड़ा हो गया था लेकिन उसने बचपन से ही बहुत गरीबी देखी थी। ।
छोटू को हमेशा लगता था कि उसका जीवन कितना कठिन है। एक समस्या खत्म नहीं होती कि दूसरी शुरू हो जाती है। पूरा जीवन इन समस्याओं को हल करने में ही निकला जा रहा है।

ऐसे ही एक दिन छोटू एक साधु के पास पंहुचा और उन्हें अपनी साभी परेशानियां बताई कि किस तरह से उसे अपना घर-खर्च चलाने में मुश्किल आती है, कितनी मुश्किल से वो अपनी जिम्मेदारियां निभा पाता है। उसने अपनी सारी परेशानियां बताने के बाद साधु से पूछा कि जिंदगी की कठिनाइयों का सामना कैसे करूं? एक परेशानी खत्म होती है तो दूसरी शुरू हो जाती है।

साधु महाराज हंसकर बोले- तुम मेरे साथ चलो मैं तुम्हारी परेशानी का हल बताता हूं।

साधु छोटू को एक नदी के किनारे लेकर पहुंचे और बोले – मैं नदी के दूसरी पार जाकर तुमको परेशानी का हल बताऊंगा। इतना कहकर साधु नदी के किनारे खड़े हो गए। छोटू भी उनके साथ खड़ा था। ऐसे ही खड़े-खड़े उन्हें काफी देर हो गई थी। छोटू ने आश्चर्यचकित होकर पूछा कि महाराज हमें तो नदी पार करनी है तो हम इतनी देर से किनारे पर क्यों खड़े हैं?
साधु महाराज बोले– बेटा मैं इस नदी के पानी के सूखने का इंतजार कर रहा हूं, जब ये सूख जायेगी तो फिर कोई समस्या नहीं रहेगी और हम आराम से नदी पार कर लेंगे।

छोटू को साधु की बातें मूखर्तापूर्ण लगीं, वो बोला – महाराज नदी का पानी कैसे सूख सकता है आप कैसी बातें कर रहे हैं...
साधु हंसकर बोले – बेटा यही तो मैं तुन्हें समझाना चाह रहा हूं। जीवन में रहते हुए समस्याएं न हो, ऐसा कैसे हो सकता है?
जब तुन्हें पता है कि नदी का पानी नहीं सूखेगा, तो तुन्हें खुद ही प्रयास करके नदी को पार करना होगा। वैसे ही जीवन में समस्याएं तो चलती रहेंगी, तुन्हें सभी का केवल अपने प्रयासों से हल ढूंढ़ते जाना है। अगर किनारे बैठ कर नदी का पानी सूखने का इंतजार करोगे तो जीवन भर कुछ नहीं पा सकोगे। पानी तो बहता रहेगा, समस्या तो आती रहेंगी लेकिन तुन्हें नदी की धार को चीरते हुए आगे जाना होगा, हर समस्या को धराशायी करना होगा। तभी जीवन में आगे बढ़ सकोगे। अब छोटू को सधु महाराज की बातें अच्छे से समझ आ गई थी।

Read More

मुंशी प्रेमचंद जी की जीवनी

प्रेमचंद का जन्म वाराणसी के निकट लमही गाँव में हुआ था। उनकी माता का नाम आनन्दी देवी था तथा पिता मुंशी अजायबराय लमही में डाकमुंशी थे। उनकी शिक्षा का आर ...

जब भगवान ने बनाई स्त्री....

जब भगवान स्त्री की रचना कर रहे थे तब उन्हें काफी समय लग गया। 6ठा दिन था और स्त्री की रचना अभी अधूरी थी इसलिए देवदूत ने पूछा- भगवान, आप इसमें इतन ...

परिस्थितियों को बदला जा सकता है

काफी समय पहले की बात है दोस्तों एक आदमी रेगिस्तान में फंस गया था वह मन ही मन अपने आप को बोल रहा था कि यह कितनी अच्छी और सुंदर जगह है अगर यहां पर पानी ...

हार कर भी खुद से जीत गया

मनीष नाम का एक लड़का था उसको दौड़ने का बहुत शौक था वह कई मैराथन में हिस्सा ले चुका था परंतु वह किसी भी race को पूरा नही करता था एक दिन उसने ठान लिया ...

चील संग मुर्गी

एक जंगल में बरगद का पेड़ था. उस पेड़ के ऊपर एक चील घोंसला बनाकर रहती थी जहाँ उसने अंडे दे रखे थे. उसी पेड़ के नीचे एक जंगली मुर्गी ने भी अंडे दे रखें थे. ...

मेंढकों की टोली

एक मेंढकों की टोली जंगल के रास्ते से जा रही थी. अचानक दो मेंढक एक गहरे गड्ढे में गिर गये. जब दूसरे मेंढकों ने देखा कि गढ्ढा बहुत गहरा है तो ऊपर खड़े सभ ...

गीत का इनाम ‘A Brave Girl’

गीत अभी तक कोचिंग क्लास से नहीं लौटी थी तीन बार गली के मोड़ पर जाकर देख चुका था। जबकि रोज साढ़े सात बजे तक लौट आती थी। आज तो साढ़े आठ हो चुके। फोन भी नही ...

चमकीले नीले पत्थर की कीमत

एक शहर में बहुत ही ज्ञानी प्रतापी साधु महाराज आये हुए थे, बहुत से दीन दुखी, परेशान लोग उनके पास उनकी कृपा दृष्टि पाने हेतु आने लगे. ऐसा ही एक दीन दुखी ...

आप वही बन जाते हैं जो आप अपने बारे में सोचते हैं

एक शहर में बहुत ही ज्ञानी प्रतापी साधु महाराज आये हुए थे, बहुत से दीन दुखी, परेशान लोग उनके पास उनकी कृपा दृष्टि पाने हेतु आने लगे. ऐसा ही एक दीन दुखी ...

वो प्यारा बचपन

एक 6 वर्ष का लड़का अपनी 4 वर्ष की छोटी बहन के साथ बाजार जा रहा था| अचानक से उसे लगा की,उसकी बाहन पीछे रह गई है | वह रुका,पीछे मुड़कर देखा तो जाना की ...

Recent Posts






















Like us on Facebook