Surgical Strike से कम नहीं भारत का यह वार, पाक है कि मानता नहीं

भारत की ओर से रविवार को की गई कार्रवाई से पाक एक बार फिर बौखला गया है। सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक के बाद इसे तीसरी बड़ी स्ट्राइक कहा जा रहा है। आए दिन सीजफायर उल्लंघन करने वाले पाकिस्तान को 4 साल में तीन बड़े ऐक्शन से यह संदेश मिल गया है कि भारतीय सेना अब इंतजार करने की रणनीति छोड़ चुकी है और अब भारत का रुख रक्षात्मक नहीं आक्रामक है।
भारत के इस कार्रवाई को पाकिस्तान मामने से इनकार कर रहा है। पाकिस्तान ने कहा कि वह भारत के इस झूठ को बेनकाब करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देशों के राजनयिकों के वहां के दौरे की व्यवस्था कर सकता है।
बता दें कि भारतीय सेना की गोलाबारी में कम से कम 10 पाकिस्तानी सैनिक व 20-30 आतंकवादी मारे गए और पाकिस्तान को भारी नुकसान पहुंचा है। इस खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि पाकिस्तान एलओसी के नजदीक कथित लांचिंग पैड को भारत द्वारा निशाना बनाने संबंधी भारतीय मीडिया की खबर को साफ तौर पर खारिज करता है।
विदेश विभाग ने कहा कि पाकिस्तान ने सुरक्षा परिषद के पांचों सदस्यों से अपील की है कि वे भारत से आतंकवादी लांचिंग पैड के बारे में जानकारी देने को कहें। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने भी भारतीय मीडिया की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाने को लेकर गलत दावा किए जा रहे हैं।
पाक ने भारतीय उच्चायुक्त को किया तलब
इस बीच, पाकिस्तान ने भारतीय उप उच्चायुक्त गौरव आहलूवालिया को तलब कर भारतीय सेना की ओर से नियंत्रण रेखा पार जुरा, शाहकोट और नौशेरी सेक्टरों में कथित तौर पर की गई गोलाबारी की निंदा की। पाकिस्तान ने दावा किया कि इस गोलाबारी में उसके पांच नागरिक मारे गए।
आर्मी चीफ ने दी चेतावनी, कहा- जवाबी कार्रवाई जारी रहेगी
आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि पीओके में सीमा के करीब आतंकी कैंपों के बारे में हमारे पास सूचना थी और हमने निशाना बनाया। उनका समर्थन करने वाले लोग, पाकिस्तानी चौकियां भी सेना की जवाबी कार्रवाई की जद में आए। सेना प्रमुख ने चेतावनी भी दी है कि पाकिस्तान अगर ऐसी गतिविधियां जारी रखेगा तो भारतीय सेना जवाबी कार्रवाई से नहीं हिचकिचाएगी।

Read More

जानें, एकादशी व्रत की महिमा क्या है

तमाम व्रत और उपवासों में सर्वाधिक महत्व एकादशी का है, जो माह में दो बार पड़ती है. शुक्ल एकादशी,और कृष्ण एकादशी. वैशाख मास में एकादशी उपवास का विशेहिन् ...

राष्ट्रीय मतदाता दिवस कब मनाया गया ?

भारत में राष्ट्रीय मतदाता दिवस हर साल 25 जनवरी को मनाया जाता है। यह दिवस भारत के प्रत्येक नागरिक के लिए अहम है। इस दिन भारत के प्रत्येक नागरिक को अपने ...

राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है ?

देश में 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने की शुरुआत 2009 से की गई। सरकार ने इसके लिए 24 जनवरी का दिन चुना क ...

इंडियन आर्मी डे क्‍यों 15 जनवरी को मनाया जाता है ?

15 जनवरी यानी को इंडियन आर्मी अपना एक और आर्मी डे मनाएगी और अपने बहादुरों को सलाम करेगी। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इंडियन आर्मी इसी दिन पर आर्मी डे ...

कब है काल भैरव अष्टमी? जानें इस दिन पूजा का महत्व

हिंदू धर्म के अनुसार हर महीने कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी मनाई जाती है। इस दिन विशेष रूप से भोलेबाब के रौद्र रूप काल भैरव के पूजन का दिन हो ...

विश्व हिंदी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

विश्व हिन्दी दिवस प्रति वर्ष 10 जनवरी को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना तथा हिन्दी को अन्तर ...

प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है

प्रवासी भारतीय दिवस (पीबीडी) भारत के विकास में प्रवासी भारतीय समुदाय के योगदान को चिह्नित करने के लिए हर साल 9 जनवरी को मनाया जाता है। 9 जनवरी के दिन ...

क्यों मनाते हैं पोंगल त्योहार?

उत्तर भारत के मकर संक्रांति त्योहार को ही दक्षिण भारत में पोंगल के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार गोवर्धन पूजा, दिवाली और मकर संक्रांति का मिला-ज ...

राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों और कब मनाया जाता है?

अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस पूरे विश्व में 12 अगस्त को मनाया जाता है। जबकि भारत में प्रतिवर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। अंत ...

वट पूर्णिमा व वट सावित्री व्रत का महत्व व पूजा विधि

वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ माह की अमावस्या को मनाया जाता है. पूर्णिमानता कैलेंडर को उत्तरी भारत के प्रदेशों जैसे उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब ...

रथ यात्रा कब और क्यों मनाया जाता है इसका क्या महत्व है

पूर्व भारतीय उड़ीसा राज्य का पुरी क्षेत्र जिसे पुरुषोत्तम पुरी, शंख क्षेत्र, श्रीक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है, भगवान श्री जगन्नाथ जी की मुख्य लील ...

Recent Posts






















Like us on Facebook