जीपीएस नाविक की मदद से देश सहित सीमा से बाहर दो सौ किमी तक रखी जाएगी नजर

करीब 18 साल पहले कारगिल युद्ध के दौरान ऊंची चोटियों पर बैठे दुश्मनों की सटीक जानकारी लेने के लिए सेना को जीपीएस (ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम) की जरूरत पड़ी, तब उसने इसके लिए अमेरिका से मदद मांगी, लेकिन उसने इसे देने से न सिर्फ इंकार कर दिया, बल्कि अपने सिस्टम को ही उस क्षेत्र में बंद कर दिया था।
हालांकि इस युद्ध में भारत की ही जीत हुई, लेकिन देश ने तभी ठान लिया था, कि वह अपना खुद का जीपीएस तैयार करेगा। मेहनत रंग लाई। देश जल्द ही अपने खुद के विकसित किए गए यानी देशी जीपीएस नाविक (नेवीगेशन विथ इंडियन कांस्टेलेशन) का इस्तेमाल करेगा। माना जा रहा है कि यह प्रणाली अगले महीने तक काम करना शुरू कर देगी।
इसका इस्तेमाल हालांकि अभी इसरो सहित सेना और आपदा प्रबंधन से जुड़े लोग ही कर सकेंगे, लेकिन इससे जुडी डिवाइस (रिसीवर) के बाजार में लांच होते ही इस सुविधा का लाभ आम लोग भी कर सकेंगे। इसे लेकर इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) तेजी से काम कर रहा है। नाविक की मदद से देश सहित सीमा से बाहर भी करीब दो सौ किमी तक नजर रखी जा सकेगी।
मौजूदा समय में अपना खुद का जीपीएस अभी अमेरिका, रूस और चीन जैसे देशों के पास ही है। हालांकि भारत के मुकाबले अमेरिका का जीपीएस ज्यादा शक्तिशाली है, क्योंकि इसकी पहुंच में पूरा विश्व है, जबकि भारतीय जीपीएस नाविक सिर्फ भारत और पड़ोसी देशों तक ही सीमित रहेगा। दावा है कि यह अमेरिकी जीपीएस के मुकाबले ज्यादा सटीक और नजदीक तक नजर रखेगा।
नेशनल फिजिकल लेबोरेटरी( एनपीएल) के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ आशीष अग्रवाल के मुताबिक नाविक का जीपीएस इसलिए सटीक होगा, क्योंकि इसके लिए एनपीएल की ओर से ज्यादा सटीक समय उपलब्ध कराया जा रहा है। जिसमें नैनो सेकेंड से भी कम का अंतर है। इस योजना के तहत एनपीएल ने इसरो के लिए खास एटामिक घड़ी भी तैयार की है, जिसे नाविक से जोड़ा गया है।
यह घड़ी एनपीएल के वैज्ञानिकों की देखरेख में ही काम करती है। डॉ अग्रवाल के मुताबिक एनपीएल की ओर से दिया जाने वाला यह समय इस पूरी योजना का सबसे अहम बिंदू है, क्योंकि जीपीएस का पूरा कामकाज समय पर ही आधारित है। इसरो इसके लिए एनपीएल को आर्थिक मदद भी देता है।
सटीक समय के चलते लटका था काम
नाविक पर काम कर रहे वैज्ञानिकों के मुताबिक यह प्रोजेक्ट वैसे तो काफी समय पहले ही पूरा हो जाना था। लेकिन प्रोजेक्ट की शुरूआती देरी के बाद पिछले दो सालों से प्रोजेक्ट सटीक समय को लेकर ही अटका रहा है। इस बीच एनपीएस ने जैसे ही सटीक समय देने का काम पूरा किया, इस प्रोजेक्ट में तेजी आयी। बता दें कि इसी साल एनपीएल ने एटामिक घडि़यां तैयार की है। जिनकी मदद से नैनो सेकेंड से भी कम अंतर का सटीक समय दिया जा रहा है।

Read More

सीएम बनते ही बोले कमलनाथ, यूपी-बिहार नहीं मध्यप्रदेश के युवाओं का नौकरी पर पहला हक

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का एक काम पहले दिन से ही विवादों की भेट चढ़ता नजर आ रहा है। दरअसल, मुख्यमंत्री ने पहले दिन उद्योगों के लिए नई छूट नीत ...

कर्जमाफी- गंगा जल लेकर किया गया वादा कांग्रेस के लिए चुनौती, किसानों को है बेसब्री से इंतजार

मध्य प्रदेश, राजस्थान के साथ ही छत्तीसगढ़ में भी मुख्यमंत्री पद के दावेदार का चयन होने के बाद अब इंतजार केवल इसका नहीं है कि कमलनाथ, अशोक गहलोत और भूप ...

कौन बनेगा मुख्यमंत्रीः मप्र, राजस्थान के बाद अब छत्तीसगढ़ की बारी, सस्पेंस बरकरार

मध्यप्रदेश के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री की भी घोषणा हो गई, लेकिन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पर रहस्य बरकरार है। शुक्रवार को दिल्ली में कांग्रेस के राष् ...

मध्यप्रदेश में कमल के बाद कमलनाथ का राज, सोनिया-प्रियंका की ने की सीएम बनने में मदद!

चुनाव नतीजे आने के दो दिन बाद कांग्रेस आखिरकार मध्य प्रदेश में कमलनाथ को मुख्यमंत्री चुनने में सफल रही। मध्यप्रदेश में कमलनाथ पर मुहर राहुल गांधी ने म ...

तीनों राज्यों के सीएम पर अब भी सस्पेंस, अब दिल्ली में राहुल तय करेंगे नाम

तीन राज्यों में बड़ी जीत के बाद मुख्यमंत्री पद की दौड़ में शामिल दिग्गजों के डटे रहने की वजह से कांग्रेस के लिए सीएम तय करना आसान नहीं रहा। मध्य प्रदे ...

मध्यप्रदेश-राजस्थान में किसी को बहुमत नहीं, जोड़-तोड़ शुरू; किसकी बनेगी सरकार ?

कांग्रेस पार्टी तीन राज्यों में मिली जीत से भले ही उत्साहित हो लेकिन वो दो राज्यों, राजस्थान और मध्यप्रदेश में बहुमत का आंकड़ा नहीं छू पाई है। इसीलिए ...

दिल थाम कर बैठिए, कल धीरे-धीरे आएगा चुनाव परिणाम, कांग्रेस की ये मांग है वजह

इस बार मतगणना का परिणाम धीरे-धीरे आएगा और देर रात तक नतीजे घोषित होने की संभावना है। इसके पीछे वजह कांग्रेस की आशंका और चुनाव आयोग का एक फैसला है। दरअ ...

10 Exit Poll का सार, जानें कहां बन रही है किसकी सरकार

राजस्थान और तेलंगाना का मतदान खत्म होते ही एग्जिट पोल जारी कर दिए गए। सभी की नजरें मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी थी, जहां मुख्य मुकाबला भा ...

दैनिक जागरण के 75 सालः संवरते भारत का संवाद, पीएम मोदी रखेंगे विचार

विज्ञान, नैतिकता और सार्थकता की राह दिखाने वाला भारत अब फिर से खुद को तलाश रहा है। जाहिर है कि यह स्थिति कई कारणों से बनी जिसमें शायद वषर्षो की गुलामी ...

बिचौलिये मिशेल से CBI की सख्त पूछताछ, सिर्फ दो घंटे सोने दिया, घबराहट में दौरा पड़ा

अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल (57) के दिल्ली पहुंचने के बाद सीबीआइ ने उससे सघन पूछताछ की। उसे रात में सिर्फ द ...

भारत का सबसे वजनी सैटेलाइट GSAT-11 लांच, तेज हो जाएगी इंटरनेट की स्पीड

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO ने बुधवार को अपने अब तक के सबसे वजनी सैटेलाइट का प्रक्षेपण कर दिया। भारतीय समयानुसार मगंलवार-बुधवार की रात में दक्षिणी अमे ...

Recent Posts






















Like us on Facebook